Connect with us

संस्कृति

फरवरी में नहीं 22 सितम्बर को मनाया जाता है ‘WORLD ROSE DAY’,जानिए पूरी सच्चाई

Published

on

12 साल की मेलिंडा रोज की याद में मनाया जाता है ‘WORLD ROSE DAY’

‘ROSE DAY’ का नाम सुनते ही फरवरी माह की याद आ जाती है|वैलेंटाइन वीक का पहला दिन ‘रोज डे’,और सही भी है क्योंकि बात प्रेम की हो और खुशबू गुलाब की न हो तो प्रेम अधुरा रह जाता है|लेकिन इस बार प्रेम से इतर ये कहानी है मेलिंडा रोज की जीवन जीने की जिद्द की,उस ललक की जिसने उन्हें कैंसर जैसी बिमारी के सामने भी हारने न दिया |

आँखों को सुकून देने वाले ये गुलाब जीवन के कई कठिन फलसफों की भी गवाही देता है|उन सभी फलसफों में से एक की नायिका रहीं हैं 12 वर्षीय कैंसर पेशेंट मेलिंडा रोज जिनकी याद में हर साल मनाया 22 सित्मबर को मनाया जाता है ‘गुलाब दिवस’|मौत को करीब आते हुए देखने के बाद भी जीवन के प्रति अपनी सकारात्मकता को बरकरार रखने वाली मेलिंडा रोज की याद में मनाया जाने वाला ये दिन उन लोगों के प्रति समर्पित हैं जो कैंसर जैसी भयावह बीमारी से अपनी जिंदगी के लिए जंग लड़ रहें हैं|

कौन थी मेलिंडा रोज 

कनाडा की रहने वाली मेलिंडा की जिंदगी के 12वें पन्ने के बाद भगवान की कलम की स्याही खत्म सी हो गयी थी|वो कोई आम दिन ही था जब नन्ही मेलिंडा को डॉक्टर ने बताया था की अब उनके पास ज्यादा समय नहीं बचा था|मेलिंडा रोज  आस्किन ट्यूमर,रक्त कैंसर से जूझ रहीं थी|डॉक्टरों ने कहा कि वह कुछ हफ्तों से अधिक नहीं जीवित नहीं रह पाएंगी|इस जानकारी के बाद जहां मेलिंडा का पूरा परिवार दुखी था वहीँ मेलिंडा हर वो कोशिश कर रही थी जिससे की वो अपनी जिंदगी के बचे हुए पन्नो को रंगीन बना सके|

यह भी पढ़ें- ‘हम किसी से कम नहीं ‘का नारा बुलंद कर रही हैं राजधानी के पेट्रोल पंप पर कार्यरत महिला कर्मचारी

खुद के प्रति सकरात्मकता और जीवन को देखने के नजरिये से न की उन्होंने खुद पर आस-पास मौजूद कैंसर पेशेंट्स को भी बेहतर जीवन जीने के लिए उत्साहित किया|छ: महीनें तक अपने जीवन की डोर सलामत रखने वाली मेलिंडा,सभी कैंसर रोगियों और उनके देखभाल करने वालों को पत्र,कविताओं और ईमेल के माध्यम से समय-समय पर उनके ख़ास होने का एहसास दिलाती रहती थी|

क्या हैं महत्व

मेलिंडा रोज के इसी जज्बे और जोश को उनकी मृत्यु के बाद भी जिन्दा रखने के हर साल 22 सितम्बर को मनाया जाता है ‘ROSE DAY’|इस दिन आयोजित किए गए जागरूकता कार्यक्रम जहां एक तरफ सामान्य लोगों को कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के बारे में जानकारी उपलब्ध कराते हैं वहीं दूसरी ओर रोगियों को इस कठिन समय पर विजय पाने के लिए प्रेरित करते हैं|गुलाब दिवस सभी कैंसर रोगियों को यह बताने के लिए मनाया जाता है कि वे मजबूत इच्छाशक्ति और सकारात्मक भावना के साथ इस बीमारी को मात दे सकते हैं।

हर इंसान भूखा होता है प्रेम का,और जब खुद को पता चल जाए की जीवन की गाड़ी कभी भी रुक सकती है तो वो भूख और भी ज्यादा बढ़ जाती है|आकड़ों के हिसाब से साल 2018 में अब तक करीब 9.6 मिलियन लोगों की मृत्यु कैंसर के बजह से हो चुकी हैं|कैंसर पेशेंट्स जीवन के उस दौर से गुजर रहें होते हैं जिसे अकेलापन और मुश्किल बना देता है,तो साल के एक ही दिन सही पर किसी के जीवन में खुशबू भरने की कोशिश जरुर करें|http://www.satyodaya.com

संस्कृति

Vinayak chaturthi 2020: सुख-समृद्धि और सफलता के लिए करे इस महामंत्र का जाप

Published

on

इस साल की आखिरी विनायक चतुर्थी 27 फरवरी यानी आज है। अमावस्या के बाद आने वाली चतुर्थी को ही विनायक चतुर्थी कहा जाता है। फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष में विनायक चतुर्थी मनायी जाती है। इस दिन विघ्नहर्ता श्री गणेश जी का व्रत रख कर विधि विधान से पूजा अर्चना की जाती है। इस व्रत को करने से रिद्धि-सिद्धि व समस्त सुख की प्राप्ति होती हैं। फाल्गुन मास हिन्दू कैलेंडर का आखिरी यानी 12वां मास है। इसलिए इस मास की विनायक चतुर्थी इस वर्ष की आखिरी विनायक चतुर्थी है। इस दिन गणेश जी के महामंत्र का जाप करने से व्यक्ति को जीवन में सुख-समृद्धि के साथ सफलता की प्राप्ति होती है। जीवन के सभी दुःख दर्द दूर होते है।


पूजा करने का सही मुहूर्त
27 फरवरी दिन गुरुवार को चतुर्थी तिथि का प्रारंभ सुबह 4 बजकर 11 मिनट से हो रहा है। जो 28 फरवरी दिन शुक्रवार को सुबह 6 बजकर 44 मिनट तक है।

यह भी पढ़े :- राशिफल: जानिए 27 फरवरी का दिन आपके लिए कैसा रहेगा…

सुख-समृद्धि की प्राप्ति का महामंत्र
प्रातर्नमामि चतुराननवन्द्यमानमिच्छानुकूलमखिलं च वरं ददानम्।
तं तुन्दिलं द्विरसनाधिपयज्ञसूत्रं पुत्रं विलासचतुरं शिवयो: शिवाय।।
प्रातर्भजाम्यभयदं खलु भक्तशोकदावानलं गणविभुं वरकुञ्जरास्यम्।
अज्ञानकाननविनाशनहव्यवाहमुत्साहवर्धनमहं सुतमीश्वरस्य।।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

संस्कृति

विनायक चतुर्थी 2020: सुख-समृद्धि के लिए ऐसे करें भगवान गणेश की पूजा…

Published

on

लखनऊ: भगवान गणेश को विघ्नहर्ता कहा जाता है, उनकी पूजा व आराधना करने से सभी तरह के कष्ट दूर हो जाते हैं। इस बार विनायक चतुर्थी 27 फरवरी को मनाई जाएगी। अमावस्या के बाद आने वाली चतुर्थी को ही विनायक चतुर्थी कहा जाता है। इस दिन विघ्नहर्ता श्री गणेश जी का व्रत रख कर विधि विधान से पूजा अर्चना की जाती है और इस व्रत को करने से रिद्धि-सिद्धि व समस्त सुख की प्राप्ति होती हैं। तो आइए जानते है विनायक गणेश चतुर्थी व्रत का क्या महत्व होता हैं।

गणेश जी का नाम विनायक होने के कारण इसे विनायकी चतुर्थी व्रत भी कहा जाता है। कई भक्त विनायकी चतुर्थी व्रत को वरद विनायक चतुर्थी के रूप में भी मनाते हैं। इस मौके पर श्री गणेश की पूजा दिन में दो बार की जाती है, एक बार दोपहर में और एक बार मध्याह्न में। अगर विनायकी गणेश चतुर्थी का व्रत मंगलवार को पड़ता है, तो उसे अंगारक गणेश चतुर्थी कहा जाता है।

शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी और कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी कहा जाता है। गणेश चतुर्थी हिन्दू कैलेंडर के हर मास में दो बार आता है। कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी गणेश चतुर्थी या सकट चौथ कहा जाता है। वहीं, शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी के नाम से जाना जाता है।

ये भी पढ़ें: पुलिस ने LDA ऑफिस पर किया कब्जा, लिख दिया ‘थाना गोमतीनगर विस्तार’

                                                                                                

विनायक चतुर्थी का शुभ मुहूर्त

27 फरवरी दिन गुरुवार को चतुर्थी तिथि का प्रारंभ सुबह 4 बजकर 11 मिनट से हो रहा है, जो 28 फरवरी दिन शुक्रवार को सुबह 6 बजकर 44 मिनट तक है।

विनायक चतुर्थी पूजा विधि

विनायक चतुर्थी की पूजा मुख्य तौर पर दोपहर में की जाती है। इस दिन विघ्नहर्ता श्री गणेश जी की पूजा करने से लाभ होता है। चतुर्थी के दिन स्नान आदि से निवृत होने के बाद लाल वस्त्र पहनें, फिर दोपहर में पूजा स्थल पर भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित करें। उसके बाद व्रत का संकल्प करें। इसके बाद गणपति को अक्षत्, रोली, पुष्प, गंध, धूप आदि से सुशोभित करें। इसके पश्चात गणेश जी को 21 दुर्वा अर्पित करें और लड्डुओं का भोग लगाएं। गणेश जी को दूर्वा अर्पित करते समय ओम गं गणपतयै नम: मंत्र का उच्चारण करें। अब गणेश जी की कपूर या घी के दीपक से आरती करें। इसके पश्चात प्रसाद लोगों मे वितरित कर दें।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

संस्कृति

राशिफल: जानिए 25 फरवरी का दिन आपके लिए कैसा रहेगा…

Published

on

राशि फलादेश मेष :-(चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)
मन प्रसन्न रहेगा। आप आज अपने अंदर एक नई ऊर्जा को महसूस करेंगे। आज आपका आत्मविश्वास भरपूर रहेगा। परिवार एवं भाइयों से पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। माता के आशीर्वाद से आपको बहुत लाभ प्राप्त होगा। स्थायी संपत्ति के योग अच्छे बनते हैं। संतान पक्ष से आप संतुष्ट रहेंगे। जीवनसाथी का पूर्ण सहयोग मिलेगा। जीवनसाथी के विचारों का सम्मान करें।

🐂 राशि फलादेश वृष :- (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)
शत्रुओं के द्वारा परेशान हो सकते हैं। जीवनसाथी की धर्म के प्रति रुचि रहेगी। जीवनसाथी की भावनाओं का सम्मान करें। घर के सभी सदस्य की बातों को ध्यान से सुनकर सही निर्णय लें। परिवार में तनाव का वातावरण रहेगा। मन में निराशा की अनुभूति होगी। दिमाग आज अस्थिर रहेगा। सोचे हुए कार्यों में विलंब हो सकता है। परिवार में किसी बात को लेकर मतभेद रहेगा।

👫 राशि फलादेश मिथुन :-(का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)
परिवार में प्रसन्नता का वातावरण बना रहेगा। भाइयों का पूरा सहयोग प्राप्त होगा। हर क्षेत्र में सफलता मिलेगी। मन में आत्मविश्वास बना रहेगा। कार्य करने में मन प्रसन्न रहेगा एवं दिमाग और शरीर में कार्य करने के लिए सक्रियता बनी रहेगी।

यह भी पढ़ें: प्रशिक्षण कार्यक्रम ‘निष्ठा’ का समापन, 150 शिक्षकों ने हासिल किया प्रशिक्षण

🦀 राशि फलादेश कर्क :- (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)
मन में आत्मविश्वास बना रहेगा। परंतु किसी परिस्थिति के कारण थोड़ा मन में भय भी रहेगा। कार्य करने में मन उदासीन रहेगा। शत्रु से परेशान रहेंगे। पेट संबंधी विकार हो सकता है। संतान के शिक्षा एवं आगामी भविष्य के लिए चिंतित रहेंगे।

🦁 राशि फलादेश सिंह :- (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)
मन में आत्मविश्वास एवं प्रसन्नता रहेगी। सोचे हुए कार्य पूर्ण होंगे एवं सभी का सहयोग प्राप्त होगा। माता के आशीर्वाद से धन संपत्ति प्राप्त करने का अवसर प्राप्त होगा। संतान पक्ष से निश्चिंत रहेंगे। संतान को सफलता प्राप्त होगी।

👩🏻‍🦰 राशि फलादेश कन्या :- (ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)
मन में तनाव एवं अस्थिरता रहेगी। इस कारण से कार्य करने में रुचि नहीं रहेगी। परिवार में किसी परेशानी को लेकर चिंतित रहेंगे। भाइयों का सहयोग रहेगा, परंतु विचारों में सामंजस्य बनाकर रखें। नहीं तो विवाद हो सकता है। माता के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित रहेंगे।

⚖ राशि फलादेश तुला :- (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)
मन प्रसन्न रहेगा। कार्य करने की क्षमता बढ़ेगी। धन संबंधी कार्य पूर्ण होंगे। माता के आशीर्वाद से सफलता प्राप्त होगी। संतान की शिक्षा के बाद व्यवसाय शुरू होने के योग बनते है। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। भाग्य पूर्ण रूप से सहयोग प्रदान करेगा।

🦂 राशि फलादेश वृश्चिक :- (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)
मन में कुछ अशांति बनी रहेगी एवं कोई भी कार्य करने के प्रति उदासीनता रहेगी। धर्म के प्रति आस्था बढ़ेगी। परिवार में कोई कठिनाई आ सकती है। जिसके कारण मन दुखी रहेगा। संतान के भविष्य को लेकर चिंतित रहेंगे।

🏹 राशि फलादेश धनु :- (ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)
मन में प्रसन्नता रहेगी। मस्तिष्क युवा शरीर में सक्रियता बढ़ेगी। धन की स्थिति मजबूत होगी एवं आत्मविश्वास बना रहेगा। माता का आशीर्वाद प्राप्त होगा। मान सम्मान यश बढ़ेगा। संतान की उन्नति को लेकर चिंतित रहेंगे। जीवनसाथी का भाग्य मजबूत होने के कारण आपको कार्य में सफलता मिलेगी।

🐊 राशि फलादेश मकर :- (भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)
मन में तनाव एवं अंजाना सा भय बना रहेगा। कार्य करते हुए भी कार्य पूर्ण होने में संदेह रहेगा। शत्रुओं से कष्ट होगा। धन संबंधी चिंता लगी रहेगी। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। माता को रक्त संबंधी परेशानी हो सकती है। जीवनसाथी के ग्रह तेज है।

🏺 राशि फलादेश कुंभ :- (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)
मन में सोचे गए कार्यों को पूर्ण करने के लिए प्रयास करेंगे और मन में आत्मविश्वास होने से कार्यों को अच्छी तरह से संपन्न कर पाएंगे। सक्रिय दिमाग होने से विचार सकारात्मक आएंगे एवं कार्य करने में भी स्फूर्ति बनी रहेगी। संतान की सफलता से सुख प्राप्त होगा।

🐡 राशि फलादेश मीन :- (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)
मन में थोड़ा तनाव रहेगा। असमंजस की स्थिति रहेगी। सही समय पर निर्णय ना ले पाने से समय अधिक व्यतीत होगा। भाइयों के बीच मतभेद हो सकता है। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें एवं पिता का स्वास्थ्य का अधिक ध्यान रखें। संतान से वैचारिक मतभेद बने रहेंगे। गुप्त शत्रु आपको परेशान करेंगे ।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

February 27, 2020, 10:01 pm
Fog
Fog
20°C
real feel: 19°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 77%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 6:03 am
sunset: 5:36 pm
 

Recent Posts

Trending