Connect with us

संस्कृति

फरवरी में नहीं 22 सितम्बर को मनाया जाता है ‘WORLD ROSE DAY’,जानिए पूरी सच्चाई

Published

on

12 साल की मेलिंडा रोज की याद में मनाया जाता है ‘WORLD ROSE DAY’

‘ROSE DAY’ का नाम सुनते ही फरवरी माह की याद आ जाती है|वैलेंटाइन वीक का पहला दिन ‘रोज डे’,और सही भी है क्योंकि बात प्रेम की हो और खुशबू गुलाब की न हो तो प्रेम अधुरा रह जाता है|लेकिन इस बार प्रेम से इतर ये कहानी है मेलिंडा रोज की जीवन जीने की जिद्द की,उस ललक की जिसने उन्हें कैंसर जैसी बिमारी के सामने भी हारने न दिया |

आँखों को सुकून देने वाले ये गुलाब जीवन के कई कठिन फलसफों की भी गवाही देता है|उन सभी फलसफों में से एक की नायिका रहीं हैं 12 वर्षीय कैंसर पेशेंट मेलिंडा रोज जिनकी याद में हर साल मनाया 22 सित्मबर को मनाया जाता है ‘गुलाब दिवस’|मौत को करीब आते हुए देखने के बाद भी जीवन के प्रति अपनी सकारात्मकता को बरकरार रखने वाली मेलिंडा रोज की याद में मनाया जाने वाला ये दिन उन लोगों के प्रति समर्पित हैं जो कैंसर जैसी भयावह बीमारी से अपनी जिंदगी के लिए जंग लड़ रहें हैं|

कौन थी मेलिंडा रोज 

कनाडा की रहने वाली मेलिंडा की जिंदगी के 12वें पन्ने के बाद भगवान की कलम की स्याही खत्म सी हो गयी थी|वो कोई आम दिन ही था जब नन्ही मेलिंडा को डॉक्टर ने बताया था की अब उनके पास ज्यादा समय नहीं बचा था|मेलिंडा रोज  आस्किन ट्यूमर,रक्त कैंसर से जूझ रहीं थी|डॉक्टरों ने कहा कि वह कुछ हफ्तों से अधिक नहीं जीवित नहीं रह पाएंगी|इस जानकारी के बाद जहां मेलिंडा का पूरा परिवार दुखी था वहीँ मेलिंडा हर वो कोशिश कर रही थी जिससे की वो अपनी जिंदगी के बचे हुए पन्नो को रंगीन बना सके|

यह भी पढ़ें- ‘हम किसी से कम नहीं ‘का नारा बुलंद कर रही हैं राजधानी के पेट्रोल पंप पर कार्यरत महिला कर्मचारी

खुद के प्रति सकरात्मकता और जीवन को देखने के नजरिये से न की उन्होंने खुद पर आस-पास मौजूद कैंसर पेशेंट्स को भी बेहतर जीवन जीने के लिए उत्साहित किया|छ: महीनें तक अपने जीवन की डोर सलामत रखने वाली मेलिंडा,सभी कैंसर रोगियों और उनके देखभाल करने वालों को पत्र,कविताओं और ईमेल के माध्यम से समय-समय पर उनके ख़ास होने का एहसास दिलाती रहती थी|

क्या हैं महत्व

मेलिंडा रोज के इसी जज्बे और जोश को उनकी मृत्यु के बाद भी जिन्दा रखने के हर साल 22 सितम्बर को मनाया जाता है ‘ROSE DAY’|इस दिन आयोजित किए गए जागरूकता कार्यक्रम जहां एक तरफ सामान्य लोगों को कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के बारे में जानकारी उपलब्ध कराते हैं वहीं दूसरी ओर रोगियों को इस कठिन समय पर विजय पाने के लिए प्रेरित करते हैं|गुलाब दिवस सभी कैंसर रोगियों को यह बताने के लिए मनाया जाता है कि वे मजबूत इच्छाशक्ति और सकारात्मक भावना के साथ इस बीमारी को मात दे सकते हैं।

हर इंसान भूखा होता है प्रेम का,और जब खुद को पता चल जाए की जीवन की गाड़ी कभी भी रुक सकती है तो वो भूख और भी ज्यादा बढ़ जाती है|आकड़ों के हिसाब से साल 2018 में अब तक करीब 9.6 मिलियन लोगों की मृत्यु कैंसर के बजह से हो चुकी हैं|कैंसर पेशेंट्स जीवन के उस दौर से गुजर रहें होते हैं जिसे अकेलापन और मुश्किल बना देता है,तो साल के एक ही दिन सही पर किसी के जीवन में खुशबू भरने की कोशिश जरुर करें|http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

संस्कृति

कल से नवरात्र शुरू, जानें कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Published

on

शारदीय नवरात्र की शुरुआत 29 सितंबर से हो रही है। इस बार पूरे नौ दिनों तक मां दुर्गा के अलग-अलग नौ शक्ति स्वरूपों की पूजा की जायेगी। शारदीय नवरात्र 29 सितम्बर से शुरू होकर 7 अक्टूबर तक चलेंगे। नवरात्र के पहले दिन देवी मां के निमित्त घट स्थापना या कलश स्थापना की जाती है।

कलश स्थापना ( घट स्थापना ) की विधि एवं शुभ मूहुर्त का समय
नवरात्रि में कलश स्‍थापना का विशेष महत्‍व है। कलश स्‍थापना को घट स्‍थापना भी कहा जाता है। नवरात्रि की शुरुआत घट स्‍थापना के साथ ही होती है। घट स्‍थापना शक्ति की देवी का आह्वान है।

सुबह स्नान कर साफ-सुथरे कपड़े पहनें। पूजा का संकल्प लें। मिट्टी की वेदी पर जौ को बोएं, कलश की स्थापना करें, गंगा जल रखें। इस पर कुल देवी की प्रतिमा या फिर लाल कपड़े में लिपटे नारियल को रखें और पूजन करें। दुर्गा सप्तशती का पाठ अवश्य करें। साथ ही यह भी ध्यान रखें कि कलश की जगह पर नौ दिन तक अखंड दीप जलता रहे।

शुभ मूहुर्त का समय
शुभ समय – सुबह 6.01 से 7.24 बजे तक।
अभिजीत मुहूर्त- 11.33 से 12.20 तक

Continue Reading

संस्कृति

आज है राधा अष्टमी , जान लें शुभ मुहूर्त और व्रत करने की विधि

Published

on

कृष्ण जन्माष्टमी के 15 दिन के बाद यानी आज राधा अष्टमी मनाई जा रही है। इस दिन राधा का जन्म हुआ था इसलिए इसे राधा अष्टमी के तौर पर मनाते हैं। बरसाने में इसे धूमधाम से मनाया जाता है क्योंकि राधा बरसाने की ही थीं। बरसाना के सभी मंदिरों में राधा अष्टमी की खास रौनक दिखती है। इस दिन पति और बेटे की लंबी उम्र के लिए व्रत रखने का भी नियम है।

राधा अष्टमी की तिथि और शुभ मुहूर्त

तिथि- 6 सिंतबर, शुक्रवार

अष्टमी का मुहूर्त- रात 08.43 बजे तक

राधा अष्टमी का महत्व
राधा अष्टमी पर राधा जी की पूजा को विशेष महत्व दिया जाता है। इस दिन राधा रानी की पूजा – अर्चना की जाती है। राधा जी और भगवान श्री कृष्ण के प्रेम से तो पूरी दूनिया परिचिति है। इसलिए राधा जी को गुणगान वल्लभा कहकर किया गया है। इस व्रत को करने से मनुष्य के जीवन की सभी इच्छाएं पूर्ण होती है। सिर्फ राधाअष्टमी की कथा सुनने से ही व्रत करने वाले व्यक्ति को धन, सुख समृद्धि, परिवारिक सुख और मान- सम्मान की प्राप्ति हो जाती है। राधा अष्टमी के दिन भगवान श्री कृष्ण और राधा जी की पूजा की जाती है। श्री कृष्ण की पूजा के बिना राधा जी की पूजा अधूरी मानी जाती है। भारत के उत्तर प्रदेश में स्थित मथुरा, वृंदावन, बरसाना, रावल और मांट के मंदिरों में राधा अष्टमी को त्योहार के रूप में मनाया जाता है।

राधा अष्टमी की पूजा विधि

भोर में स्‍नान करने के बाद साफ- सुथरे वस्‍त्र धारण करें। पूजा घर के मंडप के बीचोंबीच कलश स्‍थापित करें। अब इस पर तांबे का बर्तन रखें। राधा जी की मूर्ति को पंचामृत से स्‍नान कराएं। अब राधा जी को सुंदर वस्‍त्र और आभूषण पहनाएं। राधा जी की मूर्ति को कलश पर रखे पात्र पर विराजमान करें और धूप-दीप से आरती उतारें। राधा जी को फल, मिठाई और भोग में बनाया प्रसाद अर्पित करें। पूजा के बाद दिन भर उपवास करें। व्रत के अगले दिन सुहागिन महिलाओं और ब्राह्मणों को भोजन कराएं और दक्षिणा दें।

Continue Reading

देश

गणेश चतुर्थी: मायानगरी के लिए गणपति बप्पा से बढ़कर नहीं कोई और…

Published

on

मुंबई। गणेश उत्सव वैसे तो पूरे देश में मनाया जाता है लेकिन महाराष्ट में खासकर मुंबई में गणेश उत्सव की जैसी धूम होती है वैसी कहीं नहीं होती। बाॅलीवुड का हर सितारा गणपति बप्पा की भक्ति और श्रद्धा में डूब जाता है, क्या सलमान खान और क्या नाना पाटेकर, सभी।
करीब एक सप्ताह तक चलने वाले गणेश उत्सव के दौरान मंुबई में हर ओर से बस एक ही आवाज आती है, गणपति बप्पा मोरया….। भगवान गणेश के आगमन से लेकर उनकी विदाई तक श्रद्धालु पूरे भक्ति भाव से उनकी पूजा अर्चना और वंदना में लगे रहते हैं। इस बार भी मुंबई में गणेश उत्सव धूमधाम से मनाया जा रहा है।
निर्माता निर्देशक दादा साहब फाल्के की वर्ष 1925 में प्रदर्शित फिल्म ‘गणेशा उत्सव’ संभवत पहली फिल्म थी जिसमें भगवान गणेश की महिमा को रुपहले पर्दे पर पेश किया गया था। वर्ष 1936 में प्रदर्शित फिल्म ‘पुजारिन’ में भी भगवान गणेश पर आधारित गीत और दृश्य रखे गये थे। तिमिर वरन के संगीत निर्देशन में बनी फिल्म का यह गीत “हो गणपति बप्पा मोरया” आज भी श्रोताओं को भाव विभोर कर देता है और महाराष्ट्र में तो इन दिनों सभी जगह इसकी गूंज सुनाई दे रही है।

70 के दशक में भगवान गणेश की महिला का वर्णन करते हुये कई फिल्मों का निर्माण किया गया। इनमें वर्ष 1977 में प्रदर्शित फिल्म जय गणेश प्रमुख है। एस.एन. त्रिपाठी के संगीत निर्देशन में पार्श्वगायिका सुषमा श्रेष्ठ और पूर्णिमा की आवाज में रच बसे गीत “जय गणेश जय गणेश देवा माता जाकी पार्वती पिता महादेवा’’ में गणेश भगवान की महिमा का गुनगान किया गया है।
अस्सी के दशक में भी गीतकारों ने कुछ फिल्मों में भगवान गणेश पर आधारित गीतों की रचना की। वर्ष 1981 में मिथुन चक्रवर्ती की मुख्य भूमिका वाली फिल्म “हम से बढकर कौन” उल्लेखनीय है। मोहम्मद रफी और किशोर कुमार की युगल आवाज में रचा बसा युगल गीत “देवा हो देवा गणपति देवा” गणपति गीतों में अपना विशिष्ट मुकाम रखता है। अब तो इस गीत के बिना गणपति गीतों की कल्पना ही नहीं की जा सकती है।

वर्ष 1990 में प्रदर्शित फिल्म “अग्निपथ” में भी गणेश चतुर्थी उत्सव को धूमधाम से मनाये जाते हुए दिखाया गया था। अमिताभ बच्चन अभिनीत इस फिल्म में सुदेश भोंसले और कविता कृष्णामूर्ति की आवाज में भगवान गणेश की विदाई को दर्शाता गीत “गणपति अपने गांव चले कैसे हमको चैन पड़े” श्रोताओं के दिल पर अपनी अमिट छाप गया है।

नब्बे के दशक में ही प्रदर्शित फिल्म “वास्तव” में भी भगवान गणेश के उत्सव को रूपहले पर्दे पर पेश किया गया। इस फिल्म में जतिन ललित के संगीत निर्देशन में रवीन्द्र साठे की आवाज में गीतकार समीर द्वारा रचित आरती “जय देव जय देव” में भगवान श्री गणेश की महिमा का वर्णन किया गया है। वर्ष 2006 में अरसे बाद शाहरुख खान अभिनीत फिल्म “डान” में भी गणेश जी पर आधारित गीत सुनने को मिले जो श्रोताओं ने काफी पसंद किये। वर्ष 2007 में बच्चों पर आधारित फिल्म “माई फ्रेंड गणेशा” और “बाल गणेशा” का निर्माण किया गया जो बच्चों के साथ ही युवाओं में भी काफी लोकप्रिय हुआ। इस फिल्म की लोकप्रियता का अंदाजा इसी तथ्य से लगाया जा सकता है कि कई बच्चे अपने आप को ‘गणेश’ समझने लगे।

यह भी पढ़ें-जहां चाय बेचते थे PM मोदी, वडनगर की वह दुकान अब बनेगी पर्यटन स्थल

बालीवुड के फिल्मकार अपनी फिल्मों में गणेश चतुर्थी के उत्सव को मनाते आये है। ऐसी फिल्मों में श्री गणेश जन्म, श्री गणेश महिमा, श्री गणेश विवाह, गणेश चतुर्थी, श्री गणेश, सागर संगम, गंगा सागर, जय द्वारकाधीश, घर में राम गली में श्याम, कालचक्र, साहस, श्री गणेश महिला, जलजला, हम पांच, आज की आवाज, अंकुश, टक्कर, दर्द का रिश्ता, मरते दम तक, इलाका आदि फिल्में शामिल है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 8, 2019, 8:37 pm
Clear
Clear
27°C
real feel: 33°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 79%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:32 am
sunset: 5:16 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending