Connect with us

सोशल ट्रेंडिंग

डेजी शाह को कई बार करना पड़ा रिजेक्शन का सामना

Published

on

मुंबई: डेजी शाह ने 2014 में सलमान खान की फिल्म ‘जय हो’ से बतौर मुख्य अभिनेत्री बॉलीवुड में डेब्यू किया था। इसके बाद डेजी ने हेट स्टोरी 3 और रेस 3 जैसी फिल्मों में काम किया। डेजी शाह आज बॉलीवुड का जाना-माना नाम है, लेकिन एक समय ऐसा था जब डेजी शाह लगातार फेस रिजेक्शन का सामना कर रही थीं।

डेजी शाह ने बताया कि उन्हें कई बार रिजेक्ट कर दिया गया था और वह यह सुनकर चौंक गई थीं क्योंकि उन्हें इसकी बिल्कुल उम्मीद नहीं थी। उन्होंने कहा,“मैं अभी भी इसका कारण खोज रही हूं कि मुझे बैक टू बैक रिजेक्शन क्यों मिल रहा था। यह लंबे समय से हो रहा था। कुछ लोग टेस्ट लेने के बाद कहते थे ‘हम आपसे संपर्क करेंगे’लेकिन उसके बाद कोई संपर्क नहीं करता था। जब भी मुझे रिजेक्ट किया गया है, मुझे कोई ठोस कारण नहीं दिया गया।”

यह भी पढ़ें: चलती टेम्पो में चालक ने की छेड़छाड़, छात्रा ने तंग आकर लगाई छलांग…

डेजी शाह ने कहा,“मुझे अभी तक नहीं पता चला कि वो क्या था जो मेरी तरफ से गलत हो रहा था, या अब ऐसा क्या है जो मैं सही कर रही हूं। ये एक बड़ा सवाल है और मैं आज भी इसका उत्तर खोज रही हूं। इन सवालों का जवाब मुझे मिल जाएगा तो मैं अपने जीवन और करियर को अपने लिए बदल सकती हूं। यदि किसी को लगता है कि मैं उनकी फिल्म के लायक नहीं हूं तो मैं खुद पर और ज्यादा काम करती हूं। मैं ये सुनिश्चचित करती हूं कि वो मुझमें वह क्षमता देखें और मुझे सिलेक्ट करें। अपने ऊपर मेहनत करने के बाद मैं उस रोल के लिए फिट बैठूंगी।”http://www.satyodaya.com

सोशल ट्रेंडिंग

Sushant Singh Case: सिमी ग्रेवाल ने की दिशा सालियान के निधन की जांच की मांग

Published

on

नई दिल्ली: सिनेमा जगत के जाने माने एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने 34 वर्ष की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया. उनके निधन से बॉलीवुड इंडस्ट्री के साथ-साथ उनके फैंस को भी बड़ा झटका लगा था. सुशांत सिंह राजपूत मामले को लेकर एक्टर के फैंस भी लगातार सोशल मीडिया पर सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं. वहीं, लगातार बिहार पुलिस भी मुंबई में इस मामले की जांच कर रही है. अब हाल ही में एक्ट्रेस सिमी ग्रेवाल ने सुशांत सिंह राजपूत और उनकी एक्स-मैनेजर दिया सालियान के निधन को लेकर एक ट्वीट किया है, सिमी का यह ट्वीट खूब वायरल भी हो रहा है. 

सिमी ग्रेवाल ने ट्वीट करते हुए लिखा, “दिशा सालियान की मौत की भी जांच होनी चाहिए, इसकी अनदेखी क्यों की गई? यह सुशांत सिंह राजपूत की हत्या की साजिश से जुड़ी सच्चाई का खुलासा करेगा. जांच अवश्य करें, हम सच्चाई की मांग करते हैं. अब हमें रोका नहीं जा सकता.” सिमी ग्रेवाल का यह ट्वीट खूब वायरल हो रहा है और लोग इस पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं. वहीं, सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने भी पीएम मोदी से इस केस की निष्पक्ष जांच की अपील की थी. http://www.satyodaya.com

Continue Reading

सोशल ट्रेंडिंग

सुशांत सिंह राजपूत की बहन का प्रधानमंत्री को ओपन लेटर, पढ़िये

Published

on

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या का मामला उलझता ही चला जा रहा है। इस केस की जांच मुंबई और बिहार पुलिस के बीच अटकी हुई। बता दें, इस मामले में रिया चक्रवती और उनके भाई पर कई आरोप लगाए जा रहे हैं। वहीं सुशांत की बहन ने अब पीएम मोदी को ओपन लेटर लिखा है और तत्काल प्रभाव से मामले की जांच करवाने की अपील की है।

यह भी पढ़ें: प्रियंका ने लिखा CM योगी को पत्र कहा- बढ़ती अपराध की घटनाओं से सूबे में भय का माहौल

सुशांत की बहन का ओपन लेटर…


अब सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक ट्वीट करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपने मन की बात कही है। उन्होंने पीएम मोदी के नाम एक ओपन लेटर ट्वीट करते हुए लिखा, ‘मैं सुशांत सिंह राजपूत की बहन हूं और मैं पूरे मामले की तत्काल जांच का अनुरोध करती हूं। हम भारत की न्याय व्यवस्था में विश्वास करते हैं और किसी भी कीमत पर न्याय की उम्मीद करते हैं।’


श्वेता ने अपने ओपन लेटर में लिखा, ‘सर, मेरे दिल ने कहा है कि आप कहीं न कहीं सच के साथ खड़े होंगे। हम बहुत साधारण परिवार से हैं. मेरे भाई का कोई गॉडफादर नहीं था, जब वो बॉलीवुड में आया था। मेरा आपसे अनुरोध है कि आप तुरंत इस मामले को देखें और सुनिश्चित करें कि सब कुछ निष्पक्ष तरीके से संभाला जाए और किसी भी सबूत के साथ छेड़छाड़ न की जाए। न्याय की प्रबलता की अपेक्षा है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

सोशल ट्रेंडिंग

विद्या बालन की ‘Shakuntala Devi’ फिल्म OTT प्लेटफार्म पर आज रिलीज़

Published

on

नई दिल्ली। विद्या बालन एक बार फिर वूमेन सेंट्रिक फ़िल्म के साथ हाज़िर हैं। मैथमेटिशियन, ज्योतषी और लेखक शकुंतला देवी की बायोपिक में विद्या बालान ने एक मां और स्वतंत्र महिला का किरदार निभाया है। फिल्म में शकुंतला देवी का किरदार निभातीं विद्या बालन एक दृश्य में कहती हैं, ‘जब मैं स्टेज पर होती हूं, मुझे लोगों के चेहरे देखना अच्छा लगता है, गणित की गुणाभाग के बीच ज़िंदगी के कई सवाल आपको एंटरटेन करते हैं। समाज के बनाए कुछ परपंरागत जंजीरों को तोड़कर निकलीं शकुंतला देवी ने ना सिर्फ भारत में, बल्कि विश्व भर में नाम कमाया है। गणित के साथ उनका रिश्ता और उससे पाई गईं उपलब्धियों के अलावा फिल्म में उनकी पारिवारिक जिंदगी और मुद्दों को भी शामिल किया गया है। खासकर एक बेटी, एक मां और एक औरत का सफर फिल्म में दिखाया गया है।

यह भी पढ़ें: UP: प्रमोशन से बने हेड कांस्टेबल और इंस्पेक्टर पुलिसकर्मियों की ट्रेनिंग पर लगी रोक

फिल्म की कहानी
साल 1934 से 2000 तक के सफर में शकुंतला देवी का बचपन, जवानी, वृद्धा अवस्था तक शामिल किया गया है। उनके सफर की शुरुआत महज पांच साल में ही हो गई थी, जब वो गणित के बड़े से बड़े सवाल भी मुंह जुबानी हल कर दिया करती थीं। वह स्कूल जाना चाहती थीं, लेकिन बेरोजगार पिता शकुंतला की प्रतिभा के शोज कराने लगे। परिवार को पैसा मिलने लगा और शकुंतला देवी को पूरे शहर में ख्याति.. फिर देश में और फिर देखते ही देखते विश्व भर में। शकुंतला देवी के निर्भीक स्वभाव और आजाद ख्याल ने उन्हें परिवार से दूर कर दिया। खासकर मां के प्रति एक गुस्सा था। क्योंकि उन्होंने पिता के गलत तौर तरीकों को सहते जिंदगी गुजार दी।

इधर अंकों के साथ शकुंतला देवी का रिश्ता हर दिन गहराता चला गया। कंप्यूटर से भी तेज गणित के सवालों को हल करने वाली इंसान के तौर पर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में उनका नाम अंकित हुआ। जिसके बाद दुनिया उन्हें ‘ह्यूमन कंप्यूटर’ के नाम से जानने लगी। लेकिन जितनी आसानी से वो गणित के सवाल हल कर लेती थीं, उनकी व्यक्तिगत जीवन उतनी ही जटिल रही। उन्हें ‘नॉर्मल’ रहना समझ नहीं आया। उनका मानना था, कि इंसान और पेड़ों में यही फर्क है कि इंसान एक जगह टिक कर नहीं रह सकता, जबकि पेड़ जड़ों से जकड़े होते हैं। इस थ्योरी की वजह से व्यक्तिगत जीवन में अपनी बेटी से वह प्यार, सम्मान ना पाना उन्हें खलता रहा। उनके भीतर लगातार द्वंद चलता रहता है- सिद्धांतों, कर्तव्य और आकांक्षाओं के बीच। जिससे वह किस तरह उबरती हैं, यह फिल्म में दिखाया गया है।

क्या अच्छा, क्या बुरा
फिल्म देखते ही देखते एक समय ऐसा आता है। जब आप भूल जाते हैं, कि आप एक बॉयोपिक देख रहे हैं। बल्कि आपको फिल्म में दिलचस्पी विद्या बालन और उनके दमदार अभिनय की वजह से रहती है। लिहाजा, अभिनय कहानी से ऊपर का स्थान ले लेता है। खासकर एक विश्व प्रसिद्ध गणितज्ञ की बॉयोपिक को इससे बचाया जा सकता था। बायोपिक की वज़ह से कहानी में ज़्यादा प्रयोग का मौका नहीं था। इस वज़ह से यह मनोरजंन के मामले में उस स्तर पर नहीं जाती है, जैसी दंगल, भाग मिल्खा भाग या अन्य फ़िल्में। कुल मिलकार फ़िल्म कहानी बोर नहीं करती है, लेकिन बहुत एंटरटेन भी नहीं करती है।

देंखे या ना देंखे
शकुंतला देवी का यह दिलचस्प सफर प्रेरणा योग्य है। विश्व में ऐसी विलक्षण प्रतिभा देखने को काफी कम ही मिली है। प्रतिभा से अलग उनकी आकांक्षा और निर्भीक स्वभाव काफी कुछ सिखाता है। वहीं, विद्या बालन के बेजोड़ अभिनय के लिए फिल्म ‘शकुंतला देवी’ जरूर ही देखी जानी चाहिए। कहना गलत नहीं होगा कि विद्या अपनी हर फिल्म के साथ अभिनय का एक नया मापदंड सेट करती हैं।http://satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 3, 2020, 4:53 pm
Cloudy
Cloudy
32°C
real feel: 38°C
current pressure: 99 mb
humidity: 67%
wind speed: 1 m/s W
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 5:02 am
sunset: 6:23 pm
 

Recent Posts

Trending