Connect with us

सोशल ट्रेंडिंग

समलैंगिकता के मुद्दे पर बदल रहा समाज का नजरिया, खुल कर अपनाने को हो रहे तैयार …

Published

on

दुनिया भर में एक बहुत संवेदनशील मुद्दा है समलैंगिकता जिसके बारे में सीधे तौर पर लोग बात करने से कतराते है। आज भी समाज ऐसे लोगो को आसानी से अपना नही पाता। पर अब खासकर भारत में सुप्रीमकोर्ट के द्वारा मान्यता मिलने पर आमलोगों के बीच ऐसे रिश्तों को लेकर जो सोच थी धीरे-धीरे बदल रही है।कोर्ट के फैसले के बाद समलैगिकों को अब अपनी बात कहने में हिचक नही हो रही है।

भारत में 377 यानि समलैंगिकता के पक्ष में ऐतिहासिक फैसला आने के बाद बहुत से लोगों ने इसका खुले दिल से स्वागत किया जिसमे कई जानी मानी हस्तियां शामिल थी।खासकर जो लोग अपने रिश्तों को समाज के डर से छिपा रहे थे या कहने में हिचकते थे अब वो खुल के सामने आरहें हैं। अपनी बात रख रहें हैं। मध्यम वर्गीय परिवारों में इस तरह के मामलों में लोग चुप रहना ही पसंद करतें हैं पर कोर्ट के फैसले से सोच बदल रही है। समलैंगिकों के माता पिता धीरे-धीरे ही सही पर इसको स्वीकार करने लगे हैं। हाल ही में भारतीय पदक विजेता धावक ने माना की वो समलैंगिक है इसके बाद हर जगह उसकी सराहना हो रही है।

देश के ऐसे कई जाने – माने सेलिब्रिटीज हैं जिन्होंने माना कि वो होमोसेक्सुअल हैं और उन्हें ये बताने में कोई दिक्कत नही:

मनीष मल्होत्रा- एक भारतीय फैशन डिजायनर हैं। उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान अपनी कामुकता भरी डिजायन का जिक्र किया था। हालांकि, इस दौरान उन्होंने सेक्शुअलिटी को लेकर कोई बात नहीं की थी, लेकिन यदि कभी उनसे कोई पूछे तो वे ‘गे’ होने से इनकार नहीं करते।



अशोक राव- मुंबई के रहने वाले अशोक राव कवि एक पत्रकार हैं और देश के जाने-माने समलैंगिक सपोर्टर हैं। अपनी होमोसेक्शुअल फीलिंग से छुटकारा पाने के लिए उन्होंने रामकृष्ण मिशन ज्वाइन किया और धर्मशास्त्र का अध्ययन करने लगे। वहां एक वरिष्ठ संत ने उन्हें प्रोत्साहित किया और उन्होंने मठ छोड़ खुलकर समलैंगिकता को अपना लिया। कहते हैं कि राव भारत के पहले इंसान हैं, जिन्होंने गे रिलेशन और सेक्शुअलिटी के बारे में खुलकर बात की।


इमाम सिद्धिकी – पेशे में कास्टिंग डायरेक्टर इमाम ने एक रियलिटी शो में अपने सह कंटेस्टेंट को खुद कहा था, ” मैं उनके लिए जान भी दे सकता हूं, जो अच्छे इंसान हैं, लेकिन यदि कोई मुझसे दुर्व्यवहार करता है या ज्यादा स्मार्ट बनने की कोशिश करता है तो मेरा एक दूसरा रूप भी है, फिर चाहे वह महिला हो या फिर पुरुष, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि मैं एक गे हूं।”


ये कहना गलत नही होगा कि भोजन, आवास और पानी की तरह ही यौन आवश्यकता भी मानव की आधारभूत आवश्यकताओं में से एक हैं जिसके बिना न तो जीवन का पूरी तरह से अहसास हो सकता हैं न ही उसका आनंद लिया जा सकता हैं। समलैगिकता जैसे मुद्दे पर ये कहना सही है कि यौन झुकाव प्रत्येक व्यक्ति के लिये अलग हो सकता हैं।अप्राकृतिक सम्बन्ध के लिए आज समाज अल्पमत है लेकिन ये तमाम सचाईयों में से एक है। इस तरह के संबंधों को समझने के लिए कह सकते है कि ऐसे व्यक्तियों के लिये विपरित लिंग के प्रति कोई आकर्षण न होकर समान लिंग के प्रति आकर्षण होता हैं। इसको अगर कहना इतना आसान है तो उतना समझना भी हो सकता है।

समलैंगिकता एक ऐसा मुद्दा है जो मानव सभ्यता के शुरूआती काल से ही अस्तित्व में रहा है। लेकिन आधुनिक काल में ऐसे लोगों को समाज में हमेशा गलत नजर से देखा जाता रहा है। हाल-फिलहाल में कुछ देशों में इन्हें कानूनी मान्यता दी गई है लेकिन सामाजिक हालात में कोई ख़ास सुधार नहीं हुआ है। एक सवाल ये उठता है कि क्या समलैंगिक लोगों के लिए आम सामाजिक जीवन में कभी संभव नहीं था और अगर देखा जाए तो समलैंगिकता कई दशकों से चला आरहा है यहां तक की हर धर्म में इसको लेकर कुछ न कुछ कहा गया है बहुत से धर्मग्रंथों में सही तो किसी में इसको गलत भी माना गया है।

यह भी पढ़ें –Social media: लाइफ को आसान बनाते – बनाते खतरनाक होता जा रहा है सोशल मीडिया…

बात करे हिन्दू धर्म की तो हिन्दू धर्म समलैंगिक लोगों को लेकर उदार रवैया रखता है। रिग वेद में समलैंगिकता को अप्राकृतिक तो माना गया है लेकिन साथ ही ये भी बताया गया है कि अप्राकृतिक संबंध भी प्रकृति का ही एक हिस्सा है। और इस पर दुर्व्यवहार नहीं होना चाहिए।साथ ही ईसाई धर्म में भी इसको गलत नही मन गया है वहीं इस्लाम और जैन धर्म में इसको अपराध की श्रेणी में रखा गया है। इस्लाम में समलैंगिकता को हराम माना गया है।इसको एक गुनाह की तरह देखा जाता रहा है. इस्लामिक धार्मिक ग्रन्थ कुरान के अनुसार समलैंगिकता एक अपराध है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सोशल ट्रेंडिंग

PUBG खेलते-खेलते गेमिंग पार्टनर को दे बैठी दिल ,अब पति से चाहती है तलाक…

Published

on

देश में लगातार प्लेयर अननोन बैटलग्राउंड (पबजी) की दीवानगी बढ़ती जा रही है। भारत में इस गेम के कारण कई लोगों की मौत हो चुकी है। इस गेम की दीवानगी लोगों के सिर चढ़कर किस तरह बोल रही है इसका एक अनोखा मामला गुजरात के अहमदाबाद से सामने आया है। जहां इस गेम के कारण एक जोड़े का घर टूटने के कगार पर पहुंच गया है।

क्या है मामला

अहमदाबाद में रहने वाली एक 19 साल की महिला को अपने पति से तलाक चाहिए। महिला एक साल से भी कम उम्र की बच्ची की मां है। इसके लिए महिला ने राज्य की महिला हेल्पलाइन अभयम 181 पर फोन किया। महिला ने पति से तलाक मांगने और अपने गेमिंग पार्टनर के साथ रहने की इच्छा जाहिर की है।

18 साल में हुई थी शादी

अधिकारियों ने बताया कि महिला एक प्रतिष्ठित परिवार से ताल्लुक रखती है। वह अपने फैसले पर अडिग है और उसका कहना है कि फैसले के पीछे घरेलू विवाद नहीं है। काउंसलर ने कहा, ’18 साल की उम्र पूरी होने पर लड़की की शादी एक बिल्डिंग कांट्रैक्टर से हो गई थी। जल्द ही वह एक बच्ची की मां बन गई। उसके बयान के अनुसार वह कुछ महीने पहले ही पबजी की आदी हुई है और घंटो उसपर बिताती है। इसी दौरान वह शहर के एक युवा लड़के के संपर्क में आई जो नियमित तौर पर पबजी खेला करता था।’

काउंसलर की टीम ने 19 साल की महिला को अपनी बच्ची की परवरिश और उसके भविष्य का ख्याल रखते हुए एक बार फिर से अपने फैसले पर विचार करने के लिए कहा है। उसने पहले इच्छा जताई कि उसे अस्थायी तौर पर एक महिला के साथ रहने दिया जाए जब तक कि उसका तलाक नहीं हो जाता। इसके बाद वह युवक के साथ रहना चाहती है।

यह भी पढ़ें – Social media: लाइफ को आसान बनाते – बनाते खतरनाक होता जा रहा है सोशल मीडिया…https://satyodaya.com/satrangi/tech/making-life-easier-creating-dangerous-social-media/

काउंसलर ने कहा ‘वह चाहती थी कि यदि उसके पिता विरोध करें तो हेल्पलाइन के अधिकारी उसे युवक के पास ले जाएं। हमने उससे वादा किया कि हम उसके परिवार और पति से बात करेंगे लेकिन वह जल्दबाजी में कोई कदम नहीं उठाएगी। उसे पबजी की आदत छोड़ने के लिए मनोवैज्ञानिक मदद लेने के लिए कहा गया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

टेक्नोलॉजी

Social media: लाइफ को आसान बनाते – बनाते खतरनाक होता जा रहा है सोशल मीडिया…

Published

on

हम आज उस समय और युग में हैं जहां सूचना सिर्फ एक बटन दबाने पर मिल जाती है। इनके कारण हम अपने चारों ओर की जानकारी से अवगत हो जाते हैं। सोशल मीडिया वह जगह है, जहां हमे किसी भी चीज के बारे में जानने, पढ़ने, समझने और बोलने का मौंका मिलता हैं। सोशल मीडिया उन बड़े तत्वों में से एक है। जिसके साथ हम जुडे हुए हैं और जिसे हम अनदेखा नहीं कर सकते।सोशल मीडिया आज हमारे जीवन में एक बड़ी भूमिका निभा रहा है। एक बटन दबाने पर ही हमारे पास अत्यंत विस्तृत संबंधित सकारात्मक और नकारात्मक किसी भी प्रकार की जानकारी पहुंच जा रही है।

सोशल मीडिया जानकारी का आदान-प्रदान करने तथा हमें सोशल नेटवर्किंग में भाग लेने में मदद करता है। सोशल मीडिया ब्लॉगिंग और चित्रों को साझा करने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि ये हमे बहुत मजबूत उपकरण भी प्रदान करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि सोशल मीडिया का प्रभाव बहुत अधिक और दूर तक पहुंच रहा है और यह किसी के छवि को बना या बिगाड़ भी सकता है।सोशल मीडिया को आजकल हमारे जीवन में होने वाले सबसे हानिकारक प्रभावो में से एक माना जाने लगा है। दिन प्रतिदिन दिन सोशल मीडिया के गलत उपयोग से बुरा परिणाम सामने आता ही रहता है ।

कई चिकित्सकों का मानना ​​है कि सोशल मीडिया लोगों में निराशा और चिंता पैदा करने वाला एक कारक है। ये बच्चों में खराब मानसिक विकास का भी कारण बनते जा रहा है। सोशल मीडिया का अत्यधिक उपयोग निद्रा को प्रभावित करता हैं। साइबर बुलिंग, छवि खराब होना आदि जैसे कई अन्य नकारात्मक प्रभाव भी हैं। सोशल मीडिया की वजह से युवाओं में ‘गुम हो जाने का भय’ (एफओएमओ) अत्यधिक बढ़ गया है।

सोशल मीडिया के कई ऐसे नुकसान और भी हैं जिन्हें यहां बताएंगें:-

साइबर बुलिंग: कई बच्चे साइबर बुलिंग के शिकार बने हैं जिसके कारण उन्हें काफी नुकसान हुआ है।बुलिंग का मतलब होता है तंग करना। जब ये बुलिंग हद से आगे बढ़ जाती है तो पीड़ित की मानसिक शांति भंग हो जाती है। यहीं उनका सामना किसी बुलिंग करने वाले से हो जाता है। मामला गाली-गलौच से लेकर फोटो से छेड़छाड़ और धमकियों तक पहुंच जाता।

हैकिंग: व्यक्तिगत डेटा का नुकसान जो सुरक्षा समस्याओं का कारण बन सकता है तथा आइडेंटिटी और बैंक विवरण चोरी जैसे अपराध, जो किसी भी व्यक्ति को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

बुरी आदते: सोशल मीडिया का लंबे समय तक उपयोग, युवाओं में इसके लत का कारण बन सकता है। बुरी आदतो के कारण महत्वपूर्ण चीजों जैसे अध्ययन आदि में ध्यान खोना हो सकता है। लोग इससे प्रभावित हो जाते हैं तथा समाज से अलग हो जाते हैं और अपने निजी जीवन को नुकसान पहुंचाते हैं।

घोटाले: कई शिकारी, कमजोर उपयोगकर्ताओं की तलाश में रहते हैं ताकि वे घोटाले कर और उनसे लाभ कमा सके।

रिश्ते में धोखाधड़ी: हनीट्रैप्स और अश्लील एमएमएस सबसे ज्यादा ऑनलाइन धोखाधड़ी का कारण हैं। लोगो को इस तरह के झूठे प्रेम-प्रंसगो में फंसाकर धोखा दिया जाता है।

स्वास्थ्य समस्याएं: सोशल मीडिया का अत्यधिक उपयोग आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बड़े पैमाने पर प्रभावित कर सकता है। अक्सर लोग इसके अत्यधिक उपयोग के बाद आलसी, वसा, आंखों में जलन और खुजली, दृष्टि के नुकसान और तनाव आदि का अनुभव करते हैं।

सामाजिक और पारिवारिक जीवन का नुकसान: सोशल मीडिया के अत्यधिक उपयोग के कारण लोग परिवार तथा समाज से दुर, फोन जैसे उपकरणों में व्यस्त हो जाते हैं ।

यह भी पढ़ें –बोल्ड कंटेंट के सहारे टीवी सीरियलों को कड़ी टक्कर देने को तैयार है वेब सीरीज…

अपराध के प्रति उकसाना : अक्सर लोग हिंसात्मक और अपराधिक घटनाओं को लाइव कर देते हैं या फिर ऐसे वीडियोज को अपलोड कर देते है जिस से अन्य लोगो को अपराध करने में प्रोत्साहन मिलता हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Featured

पीली साड़ी वाली पोलिंग ऑफीसर का धमाकेदार इंटरव्यू, पर्सनल से प्रोफेशनल लाइफ तक

Published

on

लखनऊ। सोशल मीडिया पर एक तस्वीर तेजी से वायरल हुई। फोटो में महिला पोलिंग ऑफीसर हैं जिन्होंने पीली साड़ी पहन रखी है। तमाम तरह के मेसेजस के साथ वायरल हो रही फोटो ट्विटर जैसी सोशल साइट्स पर टॉप ट्रेंडिंग में है। बता दें, महिला पोलिंग ऑफीसर का नाम रीना द्ववेदी है और वो पीडब्लूडी में कार्यरत हैं।

सत्योदय से खास बातचीत में महिला पोलिंग ऑफीसर रीना द्ववेदी ने बताया कि कैसे तस्वीर के वायरल होने के बाद उनकी जिन्दगी में बदलाव आया है। लोग उनके साथ सेल्फी लेते हैं। उन्हें रास्ते में देख के पहचान लेते हैं। उन्होंने अपनी पर्सनल लाइफ से लेकर प्रोफेशनल लाइफ तक की बातें शेयर की। साथ ही फोटो के वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर हो रही ट्रोलिंग पर भी अपनी प्रतिक्रिया दी। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

May 20, 2019, 6:09 pm
Dreary (overcast)
Dreary (overcast)
39°C
real feel: 38°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 15%
wind speed: 3 m/s W
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 4:47 am
sunset: 6:19 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 8 other subscribers

Trending