Connect with us

सोशल ट्रेंडिंग

World day against child labour: आज भी मजदूरी के बोझ तले सिसक रहा बचपन…

Published

on

बाल मजदूरी उन्‍मूलन के लिए दुनिया भर में आज यानी 12 जून को विश्‍व बाल श्रम निषेध दिवस मनाया जा रहा है। एक तरफ आप और हम जैसे युवा एसी ऑफिस में बैठकर अपनी तनख्वाह बढ़ने का इंतजार कर रहे हैं तो वहीं आज भी दुनिया में करीब 15 करोड़ नाबालिग बच्चे दुनिया में बाल मजदूरी कर रहे हैं। इनकी उम्र 5 से 17 के बीच है।

बाल मजदूरी के खिलाफ जागरूकता फैलाने और 14 साल से कम उम्र के बच्‍चों को इस काम से निकालकर उन्‍हें शिक्षा दिलाने के उद्देश्‍य से इस दिवस की शुरुआत साल 2002 में ‘द इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन’ की ओर से की गई थी। बाल श्रम के खात्मे के लिए आज के दिन श्रमिक संगठन, स्वयंसेवी संगठन और सरकारें तमाम आयोजन करती हैं। इन सबके बावजूद बाल मजदूरी पर लगाम नहीं लग पा रही है।

यह भी पढ़ें:GOODWORK: घर से भागे नाबालिग को पुलिस ने परिजनों को सौंपा…

हर साल हजारों बच्चे दुर्व्यापार (ट्रैफिकिंग) करके एक राज्य से दूसरे राज्यों में ले जाए जाते हैं। सीमापार ट्रैफिकिंग के जरिए पड़ोसी गरीब देशों नेपाल और बांग्लादेश से भी भारत में ऐसे बच्चे हजारों की संख्या में लाए जा रहे हैं। जबरिया बाल मजदूरी, गुलामी और बाल वेश्यावृत्ति आदि के लिए इन बच्चों को खरीदा और बेचा जाता है।

आप यह जानकार हैरान हो जाएंगे कि इन बच्चों की कीमत जानवरों से भी कम होती है। तस्वीर उससे कहीं ज्यादा भयानक है जो सरकारी आकड़ों के जरिए दिखाई जा रही है। बाल मजदूरी और दासता के विरुद्ध संघर्ष करने वाले नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित श्री कैलाश सत्यार्थी द्वारा स्थापित संगठन बचपन बचाओ आंदोलन का मानना है कि तकरीबन 7 से 8 करोड़ बच्चे नि:शुल्क और अनिवार्य शिक्षा से वंचित हैं।

जनगणना के ही मुताबिक जब हम कामगार लोगों के आंकड़े को पूरे देश के सन्दर्भ में देखते हैं तो स्थिति और भयावह नजर आती है। भारत में 5 से 14 साल के बच्चों की कुल संख्या 25.96 करोड़ है। इनमें से 1.01 करोड़ बच्चे श्रम करते हैं, यानी कामगार की भूमिका में हैं। आंकड़ों से पता चलता है कि 5 से 9 साल की उम्र के 25.33 लाख बच्चे काम करते हैं। 10 से 14 साल की उम्र के 75.95 लाख बच्चे कामगार हैं। 1.01 करोड़ बच्चों में से 43.53 लाख बच्चे मुख्य कामगार के रूप में, 19 लाख बच्चे तीन माह के कामगार के रूप में और 38.75 लाख बच्चे 3 से 6 माह के लिए कामगार के रूप में काम करते हैं। राज्यवार देखें तो उत्तरप्रदेश (21.76 लाख), बिहार (10.88 लाख ), राजस्थान (8.48 लाख), महाराष्ट्र (7.28 लाख) और मध्यप्रदेश (7 लाख) समेत पांच प्रमुख राज्यों में 55.41 लाख बच्चे मजदूरी में लगे हुए हैं।

सोचिए, कि 5 से 9 साल की उम्र क्या होती है। इस उम्र में बच्चों के ऊपर काम का बोझ विकास की निशानी है या बर्बरता की। इस उम्र में तो बच्चा स्कूल में प्रवेश लेकर तीसरी—चौथी कक्षा तक पहुंचता है। जाहिर है काम के कारण उसका स्कूल तो छूट ही जाता है। ऐसे में देश के भविष्य की क्या नींव रखी जा रही है। देश में शिक्षा का अधिकार कानून के तहत इन बच्चों का अधिकार है कि वह नि:शुल्क और अनिवार्य शिक्षा हासिल करें लेकिन यह कैसा समाज है कि यह मजदूरी करके पसीना बहा रहे हैं।

कुछ परिस्थितियां हमें दिखाई नहीं देती, कुछ देखना नहीं चाहते, और कुछ के इतने आदी हो जाते हैं कि वह हमें असामान्य दिखाई ही नहीं देती। उन्हें हम सामाजिक स्वीकृति देकर अपने जीवन का एक हिस्सा मान बैठते हैं, भले ही वह गड़बड़ क्यों न हो। जब कोई गड़बड़ी हम स्वीकार नहीं करते हैं तो स्वाभाविक रूप से उसे सुधारने की कोशिशें भी रस्मअदायगी की तरह ही होती हैं। उनकी याद हमें किसी खास दिन पर आती है या फिर कोई बहुत बड़ी घटना होने पर। बाल मजदूरी का मुद्दा भी ऐसा ही है। वैसे बच्चों से जुड़े सारे मुद्दों के हालात ही ऐसे हैं जिन पर समाज में बहुत कम संवाद हैं, वह राजनीतिक रूप से हाशिए पर हैं, लेकिन बाल मजदूरी का मुद्दा तो ऐसा है जो दिखाई देते हुए भी अनदेखा है। इसके तमाम उदाहरण देश के कोने-कोने से हमारे सामने आते रहते हैं।http://www.satyodaya.com

सोशल ट्रेंडिंग

सुशांत के घर में शूट किया गया रिया चक्रवर्ती का ये वीडियो, जो अब हो रहा है वायरल

Published

on

नई दिल्ली: बॉलीवुड के 34 वर्षीय अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत रविवार 14 जून, 2020 अपने मुंबई के फ्लैट में फांसी लगा कर सुसाइड कर लिया था। उनके निधन को आज काफी दिन हो चुके हैं। लेकिन उनके फेंस आज भी उन्हें इंसाफ दिलाने में जुटे हुए हैं। आए दिन सुशांत सिंह को लेकर नई खबरें सामने आ रही हैं। एक्टर के निधन के बाद से फिल्म इंडस्ट्री में नेपोटिज्म को लेकर एक बड़ी बहस​ छिड़ गई है। वहीं सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती भी लगातार सुर्खियों में बनी हुई हैं। इसी बीच रिया का एक वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। जिसका कनेक्शन सुशांत से जुड़ा हुआ है।

यह भी पढ़ें: राशिफल: वृश्चिक राशि वालों के बिजनेस प्लान सफल हो सकते हैं,बुद्धि का प्रयोग करें

सुशांत सिंह राजपूत और रिया चक्रवर्ती एक दूसरे के काफी क्लोज थे। वहीं लॉकडाउन के दौरान रिया ने सुशांत के घर पर अपने कई वीडियोज बनाए हैं। उसी में से एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है। वैसे अगर आप रिया के इंस्टाग्राम पर वीडियोज देखेंगे तो उन्होंने अपने कई वीडियो सुशांत के घर पर बनाए हैं। वायरल वीडियो में रिया डबल रोल में नजर आ रही हैं। वहीं अगर आप इस वीडियो के लोकेशन को ध्यान से देखेंगे तो पहचान जाएंगे कि ये घर सुशांत सिंह राजपूत का है।http://satyodaya.com

Continue Reading

सोशल ट्रेंडिंग

Dhak Dhak Girl ने गोविंदा संग ‘मेरा दिल ना तोड़ो’ पर किया डांस, VIDEO वायरल

Published

on

नई दिल्ली: बॉलीवुड में माधुरी दीक्षित और गोविंदा को सबसे अच्छा डांसर माना जाता है। जब दोनों डांस करते हैं तो उनके एक्सप्रेशंस कमाल के होते हैं. इन दोनों ने कई फिल्में साथ की हैं और फैन्स का भरपूर मनोरंजन किया है। माधुरी दीक्षित और गोविंदा का एक थ्रोबैक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब सुर्खियों में है। इस वीडियो में देखा जा सकता है कि किसी शो में दोनों कलाकार स्टेज पर एक साथ डांस कर रहे हैं। इस दौरान सबकी आंखें इनके ऊपर ठहर सी गई।

यह भी पढ़ें: बक्शी का तालाब के कठवारा जंगल में मिला तेंदुए का लोकेशन, वन विभाग ने की घेराबंदी

माधुरी दीक्षित और गोविंदा ने इस दौरान ‘मेरा दिल ना तोड़ो’ सॉन्ग पर कमाल का डांस किया। यह गाना फिल्म गोविंदा की मशहूर फिल्म ‘राजा बाबू’ का है. फैन्स इस वीडियो को खूब पसंद कर रहे हैं और जमकर प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। बता दें कि गोविंदा ने 1980 के दशक में एक एक्शन और डांसिंग हीरो के रूप में अपने करियर की शुरुआत की।और 90 के दशक में एक कॉमेडी हीर के रूप में खुद को फिर से स्थापित किया।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

सोशल ट्रेंडिंग

जानिए, हार्ट अटैक से कैसे अलग है कार्डियक अरेस्‍ट ?

Published

on

नई दिल्ली: बॉलीवुड की दिग्गज कोरियॉग्रफर सरोज खान के निधन की ख़बर ने स्टार्स और उनके फैंस को गहरा सदमा दिया है। उन्हें काफी समय से सांस लेने में तकलीफ थी। इसी वजह से उन्हें 17 जून से मुंबई के बांद्रा में स्थित गुरु नानक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। जहां उनका शुक्रवार देर रात मुंबई में कार्डिऐक अरेस्ट के चलते 72 साल की सरोज खान का निधन हो गया। इस भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में लगभग सभी लोग स्ट्रेस और तनाव से गुज़रते हैं। इसी वजह से पिछले कुछ समय से दिल की बीमारियों में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। ऐसे ही पहले दिल से जुड़ी बीमारियां सिर्फ बुज़ुर्गों में ही देखी जाती थी। लेकिन अब 22 साल के बच्चों में भी यह आम हो गई है। दिल की बीमारियों में हार्ट अटैक और कार्डीऐक अरेस्ट से सबसे ज़्यादा लोगों की मौतें होती हैं। कई लोगों को इन दोनों में अंतर की जानकारी नहीं होती और वह इन दोनों को एक ही बीमारी मानते हैं। इन दोनों में अंतर जानने के लिए यह भी जानना ज़रूरी है। कि इनके होने पर शरीर में किस तरह का असर पड़ता है।

यह भी पढ़ें: Saroj Khan Death: पढ़िए, सुशांत की याद में किया था आखिरी इमोशनल पोस्ट…

हार्ट अटैक क्या होता है?

दिल का दौरा तब होता है जब कोरोनरी धमनियों में रुकावट पैदा हो जाती है। यह रक्त वाहिकाएं हैं जो हृदय की मांसपेशी तक खून को पहुंचाती हैं। क्योंकि दिल एक मांसपेशी है, इसलिए इसे अपना काम करने के लिए ऑक्सीजन युक्त रक्त की ज़रूरत होती है। कोरोनरी धमनियों में रुकावट की वजह से हार्ट अटैक आता है क्योंकि मांसपेशी तक खून नहीं पहुंच पाता है। अगर रुकी हुई कोरोनरी धमनियों को जल्दी से नहीं खोला जाता है, तो दिल की मांसपेशियां मरने लगती हैं।
क्या होता है कार्डिऐक अरेस्ट?

कार्डिऐक अरेस्ट तब होता है जब दिल पूरी तरह से धड़कना बंद कर देता है। यह दिल में एक इलेक्ट्रिक खराबी से शुरू होता है। जिसकी वजह से दिल की धड़कने अनियमित हो जाती हैं। इन दोनों के बीच प्राथमिक अंतर यही है। दिल के दौरे के मामले में, हृदय धड़कता रहता है। भले ही हृदय की मांसपेशी को खून न मिल रहा हो। हो।http://satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 4, 2020, 2:20 pm
Partly sunny
Partly sunny
32°C
real feel: 42°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 79%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 6
sunrise: 4:48 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Trending