Connect with us

मई दिवस श्रमिको कामगारों को समर्पित, 30 लाख श्रमिकों को 1-1 हजार रुपए देगी सरकार

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के मई दिवस श्रमिकों और कामगारों को समर्पित किया है। सीएम योगी आज एक साथ 30 लाख श्रमिकों को 1000-1000 रुपए प्रति व्यक्ति के हिसाब से 300 करोड़ रूपए के भरण पोषण भत्ते का उपहार देने जा रहे हैं। इस दौरान सीएम कई श्रमिकों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत भी करेंगे प्रदेश में आज मई दिवस से दोबारा राशन देने का अभियान शुरू हो रहा है। प्रदेश में सबको राशन पहुंचाने के लिए वन नेशन – वन कार्ड योजना लागू की गई है। इस योजना के तहत यूपी के प्रवासी श्रमिक या कामगार देश के किसी भी हिस्से में राशन कार्ड का नंबर बता कर राशन ले सकते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कहना है कि मई दिवस श्रमेव जयते का उद्घोष करता हुआ, विकास की प्रक्रिया में श्रम के महत्व को रेखांकित करता है. मई दिवस हमारे कामगारों और श्रमिक वर्ग की कड़ी मेह्रनत और उपलब्धि के सम्मान का आयोजन है। सीएम ने कहा कि कोविड-19 के कारण बाधित हुई आर्थिक गतिविधियों से प्रभावित श्रमिकों के कल्याण के लिए राज्य सरकार द्वारा कई कदम उठाए गए हैं।

आज मई दिवस पर सीएम योगी फिर से 30 लाख श्रमिकों और कामगारों को 1000-1000 रुपये के भरण-पोषण भत्ते की दूसरी किश्त के रूप में 300 रुपए बैंक खातों में ट्रांसफर करेंगे। बता दें इससे पहले 24 मार्च को 5 लाख 97 हजार रजिस्टर्ड भवन निर्माण श्रमिकों के भरण पोषण के लिए उनके खातों में 1000-1000 रुपए की धनराशि दी गई थी।

इसे भी पढ़ें- मई दिवस पर भत्तों में कटौती को लेकर कर्मचारियों ने मोमबत्ती जलाकर जताया विरोध

30 अप्रैल तक इस योजना के तहत 16 लाख 8 हजार श्रमिकों के खाते में भुगतान किया गया। इस तरह से सरकार अब तक कुल 160 करोड़ 82 लाख रुपए श्रमिकों के बैंक खाते में ट्रांसफर कर चुकी है। 30 अप्रैल तक शहरी क्षेत्रों के 7 लाख 57 हजार दिहाड़ी मजदूरों के खाते में कुल 76 लाख 89 हजार रुपए और ग्रामीण क्षेत्र के 5 लाख 55 हजार निराश्रित लोगों को 55 करोड़ 50 लाख रुपए का भुगतान किया गया। इसी अवधि तक प्रदेश के 27 लाख 15 हजार मनरेगा मजदूरों के बैंक खातों में डीबीटी के माध्यम से 811 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया। वहीं प्रदेश की 44,806 इकाइयों द्वारा अपने श्रमिकों को लगभग 602 करोड़ 77 लाख रुपए के वेतन का भुगतान किया गया।

सरकार के अनुसार अप्रैल में अन्त्योदय कार्डधारकों, मनरेगा श्रमिकों, श्रम विभाग में रजिस्टर्ड निर्माण श्रमिकों और नगर विकास विभाग के अंतर्गत दिहाड़ी मजदूरों को मुफ्त राशन बांटा गया आज एक मई से फिर से खाद्यान्न वितरण कार्यक्रम शुरू हो रहा है। वहीं अब तक दिल्ली से लगभग 4 लाख, हरियाणा से 12 हजार प्रवासी श्रमिकों और कामगारों की प्रदेश में सुरक्षित वापसी हो गई है। इसके अलावा मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखंड और गुजरात से प्रदेश के प्रवासी श्रमिकों और कामगारों को वापस लाने की कार्ययोजना शुरू हो गई है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लखनऊ

लखनऊ में व्यापार मंडल के अध्यक्ष सुजीत पांडेय की बदमाशों ने गोली मारकर हत्या

Published

on

By

लखनऊ के मोहनलालगंज में सरेशाम व्यापार मंडल के अध्यक्ष सुजीत पांडेय की बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। वारदात उस वक्त हुई जब सुजीत पांडेय भट्टे पर जा रहे थे। घात लगाकर बैठे बदमाशों ने सफारी से उतरते ही पांडेय को गोलियों से भून डाला।

अस्पताल ले जाते समय उनकी मौत हो गई। रविवार की शाम हुई इस वारदात से इलाके में दहशत का माहौल है। बताया जा रहा है कि सुजीत पांडेय को बदमाशों ने 8 गोली मारी। सुजीत पांडेय की पत्नी संध्या पांडे इंद्रजीत खेड़ा की प्रधान हैं।

घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। आनन-फानन में जांच शुरू कर दी गई है। घटनास्थल के पास लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने अभी आधिकारिक बयान देने से मना कर दिया। पुलिस का कहना है कि जांच के बाद ही कहा जा सकता है कि हत्या क्यों की गई है। 

Continue Reading

Uncategorized

बॉलीवुड में दस्तक देने को तैयार है लखनऊ की युवा मॉडल रूचि सिंह

Published

on

By

लखनऊ की इस युवा मॉडल का नाम आज कल सबकी जुबान पर है ।

 
 
 


रूचि सिंह जल्द ही बॉलीवुड में दस्तक देने जा रही।

Continue Reading

लखनऊ

फिनिक्‍स पलासियो ने इन त्‍योहारों के मौके पर पेश किया शानदार ‘सेलेस्शियल ग्‍लोरी’

Published

on

By

लखनऊ। राजधानी लखनऊ की शान फिनिक्‍स पलासियो ने इस बार फेस्टिव सीज़न के मद्देनज़र, माहौल को पहले से ज्‍यादा ग्‍लैमर और चकाचौंध प्रदान करने की तैयारी कर ली है। मॉल की सज्‍जा में चार चांद लगाते हुए यहां जोड़े गए हैं शानदार एलीफेंट इंस्‍टॉलेशंस जिनकी प्रेरणा हैं जानी मानी डिजाइनर गौरी खान। लखनऊ की इस मॉल ने नवाबी दौर की भव्‍यता और शानो-शौकत की याद ताज़ा की है और इसकी छतों से झांकती दिन की रोशनी तथा शाम के वक्‍़त बड़ी-बड़ी लालटेनों से बिखरते प्रकाश में अब एलीफेंट आर्ट इंस्‍टॉलेशन में जड़ें किस्‍टलों की चकाचौंध भी जुड़ गई है।

‘सेलेस्टिशयल ग्‍लोरी’इंस्‍टॉलेशन में दो आकर्षक हाथी लगे हैं जो 25 फीट से अधिक ऊंचाई के हैं। इस डिसप्‍ले को धातु से तैयार किया गया है और इन पर एक लाख से ज्‍यादा क्रिस्‍टल जड़े हैं जो गर्दनों पर भव्‍य हार और पैरों में पाजेब की जगहों पर सजे हैं। इस इंस्‍टॉलेशन को एक चौड़े, गोलाकार तथा सौम्‍य कमल के मूर्तिशिल्‍पों पर रखा गया है। दोनों तरफ लैंप डिजाइन किए गए हैं जो डायग्‍नल स्‍लांट लिए हैं और आगामी त्‍योहारों की धूमधाम के इंतज़ार में हाथियों का सिर ऊंचा है। इनकी लंबी सूंडों के सिरों पर कली के आकार के दीये सजाए गए हैं जो आसमान तक रोशनी बिखेरेंगे और इस त्‍योहारी सीज़न में फिनिक्‍स पलासियो मॉल आने वाले हर मेहमान का मन मोह लेंगे।

इस इंस्‍टॉलेशन और इसके डिजाइन के बारे में गौरी खान ने कहा, ”मैं जो भी कलाकृति बनाती हूं उसे उस शहर की धरोहर और संस्‍कृति से जरूर जोड़ती हूं जहां उसे लगाया जाता है। इस इंस्‍टॉलेशन को भी नवाबों के शहर के खूबसूरत आर्किटैक्‍चर को ध्‍यान में रखकर बनाया गया है और मुझे खुशी है कि फिनिक्‍स पलासियो इस बार दीवाली के मौके पर इसे प्रदर्शित कर रहा है। त्‍योहारों का जिक्र होते ही, मैं आसमान में टिमटिमाहट का ख्‍याल करती हूं और सोचती हूं कि किस तरह से ये रोशनियां हमारी जिंदगी को जगमगाती हैं। दिवाली की इसी चमक-धमक और रौनक को मैंने अपनी इस नवीनतम कलाकृति में समेटने की कोशिश की है।”

संजीव सरीन, सेंटर डायरेक्‍टर – फिनिक्‍स पलासियो ने कहा, ”हम गौरी खान द्वारा डिजाइन किए गए इस इंस्‍टॉलेशन को आज प्रदर्शित करते हुए बेहद खुशी महसूस कर रहे हैं। लखनऊ और आसपास के इलाकों के लिए फिनिक्‍स पलासियो एक नया लैंडमार्क बन चुका है और हमारा प्रयास है कि यह नए ग्राहकों के साथ-साथ हमारे नियमित ग्राहकों के लिए भी रोमांच का केंद्र बना रहे। यह नया मास्‍टरपीस इंस्‍टॉलेशन यकीनन ग्राहकों के अनुभवों को बेहतर बनाएगा और इस इलाके में चर्चा का विषय बनेगा।”

लखनऊ का सबसे बड़ा मॉल फिनिक्‍स पलासियो, जो कि नवाबों के इस शहर की पुरानी शानो-शौकत और भव्‍यता को सलाम करता है, अब ऐसे शॉपिंग, एफ एंड बी तथा एंटरटेनमेंट लैंडमार्क के तौर पर उभर रहा है जिसे शहर के गुजरे अतीत की यादों को ताज़ा करने के इरादे से तैयार किया गया है। 300 से ज्‍यादा भारतीय और विदेशी ब्रैंड्स के साथ, जिनमें से कई को मॉल ने ही शहर में पेश किया है, यहां एच एंड एम, अंडर आर्मर, स्‍टारबक्‍स, अमेरिकल ईगल, कामा आयुर्वेद और पारकोर्स आदि शामिल हैं। इस बार त्‍योहारी सीज़न में, फिनिक्‍स पलासियो खरीदरों के लिए कई देसी और विदेशी ब्रैंड्स की ओर से आकर्षक ऑफर भी लाया है, यानी ग्राहकों के लिए यहां अनेक विकल्‍प मौजूद हैं।

फिनिक्‍स पलासियो, सोमवार से शनिवार सवेरे 11 बजे से रात 9 बजे तक खुलता है और सुरक्षा संबंधी वैश्विक मानकों का यहां पूरा पालन किया जाता है। मॉल के प्रत्‍येक टचप्‍वाइंट को कॉन्‍टैक्‍टलैस या सुरक्षित बनाया गया है। इनमें न्‍यूनतम कॉन्‍टैक्‍ट सर्विस, सोशल डिस्‍टेंसिंग के लिए फ्लोर मार्कर्स, बैग्‍स की यूवी स्‍क्रीनिंग, प्री-सैनिटाइज्‍़ड शॉपिंग ट्रॉली, आसान पहुंच के लिए अनेक स्‍थानों पर हैंड सैनीटाइज़र्स तथा रिटेल आउटलेट्स और पार्किंग पर कॉन्‍टैक्‍टलैस पेमेंट जैसी सुविधा शामिल है।http://satyodaya.com

Continue Reading

लखनऊ

अक्षम जवानों की सूची न सौंपने पर DGP मुख्यालय ने जताई नाराजगी

Published

on

By

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस विभाग में कार्यरत 50 वर्ष से अधिक उम्र के जवानों की सूची न उपलब्ध कराने पर डीजीपी मुख्यालय ने नाराजगी जाहिर की है। सरकार का निर्देश है कि जनपदों पुलिस विभाग के उम्रदराज और भ्रष्ट व अक्षम अफसरों व जवानों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देकर बाहर किया जाए। इस संबंध में डीजीपी मुख्यालय ने 5 सितंबर को सभी जिला कप्तानों से सूची मांगी थी। एक महीने से ज्यादा का समय बीतने के बाद भी जिलों से सूची नहीं आई है।

यह भी पढ़ें-बरेली के कथित लव-जेहाद मामले में आया नया मोड़, युवती का वीडियो भी वायरल

जिसके बाद डीजीपी मुख्यालय ने सभी जोन के एडीजी, पुलिस कप्तानों और पुलिस कमिश्नर को रिमाइंडर भेजा है। सूत्रों के मुताबिक डीजीपी मुख्यालय ने सभी जिलों से 50 वर्ष से अधिक उम्र वाले सभी पुलिसकर्मियों की स्क्रीनिंग कर 25 अक्टूबर तक सूची मांगी है। मुख्यालय ने 31 मार्च 2020 को 50 वर्ष की आयु पूरी कर चुके पुलिस कर्मियों की स्क्रीनिंग कराए जाने के निर्देश दिए थे। सरकार के निर्देश के मुताबिक यूपी पुलिस में सिपाही से लेकर इंस्पेक्टर तक की स्क्रीनिंग कर अनिवार्य सेवानिवृत्त दी जानी है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Trending